Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप

Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा
Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा

Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा

प्रश्न 1 – घायल होने के बाद भी बाज ने यह क्यों कहा, “मुझे कोई शिकायत नहीं है?” विचार प्रकट कीजिए ।

उत्तर:– घायल होने के बाद भी बाज ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि उसने अपनी जिंदगी को भरपूर भोगा । वह असीम आकाश में जी भरकर उड़ान भर चुका था । जब तक उसके शरीर में ताकत रही तब तक ऐसा कोई सुख नहीं बचा जिसे उसने न भोगा हो । वह अपने जीवन से पूर्णतः संतुष्ट था ।

प्रश्न 2 – बाज जिंदगी भर आकाश में ही उड़ता रहा, फिर घायल होने के बाद भी वह उड़ना क्यों चाहता था ?

उत्तर:– बाज जिंदगी भर आकाश में उड़ता रहा, उसने आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नापा । बाज साहसी था । अतः कायर की मौत नहीं मरना चाहता था । वह अंतिम क्षण तक संघर्ष करना चाहता था । वह मरने से पहले अंतिम बार आकाश में उड़ लेना चाहता था । अतः उसने इसके लिए एक अंतिम प्रयास किया भले ही वह असफल हो गया । एक और कारण यह भी है कि साँप के गुफा से भयानक दुर्गंध आ रहा था जिससे उसका दम घुट रहा था ।

प्रश्न 3 – साँप उड़ने की इच्छा को मूर्खतापूर्ण मानता था । फिर भी उसने उड़ने की कोशिश क्यों की ?

उत्तर:– साँप उड़ने कि इच्छा को मूर्खतापूर्ण मानता था । उसके लिए उड़ान और रेंगने में कोई अंतर न था । पर जब उसने आज के मन में आकाश में उड़ने के लिए तड़प देखी तब साँप को भी लगा कि इस आकाश के रहस्य का पता लगाना ही चाहिए । तब उसने भी आकाश में एक बार उड़ने की कोशिश करने का निश्चय किया ।

प्रश्न 4 – बाज के लिए लहरों ने गीत क्यों गाया था ?

उत्तर:– बाज के साहसी, वीरता, एवं स्वतंत्रता प्रिय रूप को सम्मान देने के लिए लहरों ने गीत गाया था । वह साहसी और बहादूर था । उसने अपने प्राण गँवा दिए परन्तु ज़िंदगी के खतरे का सामना करने से पीछे नहीं हटा ।

प्रश्न 5 – घायल बाज को देखकर साँप हुआ होगा ?

उत्तर:– साँप का शत्रु बाज है चूँकि वो उसका आहार होता है इसलिए घायल बाज को देखकर साँप के लिए खुश स्वाभाविक था ।

कहानी से आगे


प्रश्न 6 – कहानी में से वे पंक्तियाँ चुनकर लिखिए जिनसे स्वतंत्रता की प्रेरणा मिलती हो ।

उत्तर: कहानी की स्वतंत्रता से संबंधित पंक्तियाँ:–

1 – जब तक शरीर में ताकत रही, कोई सुख ऐसा नहीं बचा जिसे न भोगा हो । दूर-दूर तक उड़ानें भरी हैं, आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नाप आया हूँ ।
2 – आह! काश, मैं सिर्फ़ एक बार आकाश में उड़ पाता ।
3 – पर वह समय दूर नहीं है, जब तुम्हारे खून की एक-एक बूंद ज़िंदगी के अंधेरे में प्रकाश फैलाएगी और साहसी, बहादुर दिलों में स्वतंत्रता और प्रकाश के लिए प्रेम पैदा करेगी ।

प्रश्न 7 – मानव ने भी हमेशा पक्षियों की तरह उड़ने की इच्छा की है । आज मनुष्य उड़ने की इच्छा किन साधनों से पूरी करता है ।

उत्तर: मानव ने आदिकाल से ही पक्षियों की तरह उड़ने की इच्छा को अपने मन में रखा है । परंतु शारीरिक असमर्थता के कारण से उड़ नहीं पा रहा था, जिसका नतीजा यह निकला कि मानव ने हवाई जहाज़ का आविष्कार कर दिखाया । आज के मनुष्य ने अपने उड़ने की इच्छा को पूरा हवाई जहाज़, हेलीकॉप्टर, गैस- बैलून इत्यादि से करता है ।

भाषा की बात


प्रश्न 8 – कहानी में से अपनी पसंद के पाँच मुहावरे चुनकर उनका वाक्यों में प्रयोग कीजिए ।

उत्तर:–
1 – भाँप लेना – बच्चों के चेहरे को देखकर माता जी ने परीक्षा का क्या नतीजा आया होगा यह भाँप लिया ।
2 – हिम्मत बाँधना – दोस्त के आने भर से ही दौड़ के लिए प्रतीक की हिम्मत बँधी ।
3 – अंतिम साँस गिनना – घायल चिड़िया को देखकर माता जी ने स्थिति भाँप ली वे कि वो अपनी अंतिम साँस गिन रही है ।
4 – मन में आशा जागना – माँ की बात ने मेरे मन में आशा जगा दी ।
5 – प्राण हथेली में रखना – स्वतन्त्रता सेनानी ने देशवासियों की जान बचाने के लिए अपने प्राणों को हथेली में रख दिया ।

HOME PAGE

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam-1

Garun Puran Pdf In Hindi गरुण पुराण हिन्दी में

Bhagwat Geeta In Hindi Pdf सम्पूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता हिन्दी में

up board notes

Leave a Comment